Desi Nangi Bhabhi Ki Sex Kahani - चचेरे भाई की दिलकश बीवी- 3

देसी नंगी भाभी की सेक्स कहानी में पढ़ें कि भाई की बीवी की जवानी चखने के बाद मैं एक दिन बिन बुलाये उसके घर के बाहर पहुंच गया. फिर क्या हुआ?

नमस्कार दोस्तो, देसी नंगी भाभी की सेक्स कहानी के दूसरे भाग
पूरी नंगी भाभी के जिस्म का मजा
में आपने देखा कि कैसे मैंने रेनू की योनि का चोदन करने के बाद उसकी गुदा चोदने का भी पूरा आनंद लिया.

देसी हिंदी अन्तर्वासना सेक्स कहानी पढ़े।

वो भी मेरे लिंग से चुदकर जैसे तृप्त हो गयी. उस दिन मैं उसके घर से आ गया.

अब आगे देसी नंगी भाभी की सेक्स कहानी:

उससे मिलने का वादा करके मैं घर वापस तो गया लेकिन ऐसा लग रहा था कि कुछ वहीं पर छूट सा गया।
ना मैं उन लम्हों को भुला पाया और न ही रेनू।

तड़प क्या होती है, मुझे अब पता चल रहा था। उसके पति ने उसके सारे सोशल अकॉउंट बन्द करवा दिए थे. उसको हमेशा रेनू पर शक रहता था कि कहीं ये मुझसे चैटिंग तो नहीं करती है?

उसके पति यानि मेरे चचेरे भाई से मेरी बातचीत बन्द हो चुकी थी।
रेनू के बदन का नशा उतर ही नहीं रहा था. उसने प्यार भी लाजबाब तरीके से किया था।

इस तरह तड़पते तड़पते 1 महीना बीत गया।
मैंने उससे मिलने की बहुत मिन्नतें की मगर वो कभी हाँ ही नहीं करती थी।

एक दिन मैं उसके घर के पास छुप गया और जैसे ही रेनू के पतिदेव ऑफिस को निकले, मैंने 10 मिनट के बाद डोर बेल बजा दी.

ये हिंदी सेक्स कहानी आप HotSexStoriesPictures.Com पर पढ़ रहें हैं|

रेनू को लगा कि बग़ल वाली किराएदार होगी और जैसी ही उसने दरवाजा खोला वो एकदम डर गयी- अरे तुम बिना बताए, बिना बुलाये कैसे आ गए? कहाँ छुपे थे? चलो जल्दी से अंदर आ जाओ।
वो बिना रुके इतने सवाल पूछ बैठी।

मैंने अन्दर आकर दरवाजा बंद किया और उसके होंठों पर एक प्यारा सा किस ले लिया.
उसने हल्के से धक्का दिया और बोली- दूर रहो, अभी बहुत काम है. किचन में बर्तन साफ करने हैं, घर साफ करना है और नहाना भी है.

मैंने कहा- एक काम तो मैं करा दूँगा, तुमको आज नहला दूंगा.
वो हल्के से मुस्करायी और फिर किचन में चली गयी।

उसने अपनी बेटी को चॉकलेट देकर दूसरे कमरे में टीवी चला कर बन्द कर दिया।

अब मैं किचन में आ गया और देखा कि वो आज हल्के महरूम कलर का नाईट सूट पहने थी, जो हल्का पारदर्शी भी था.

अंदर उसकी ब्रा और पैंटी हल्की सी दिख रही थी। उसका नाईट सूट बिल्कुल फिट था जिसके कारण उसके माँसल नितंब थोड़े से बाहर निकले लग रहे थे.

हिंदी पोर्न वीडियो & सेक्स मूवीज

मैंने पीछे से उसे बांहों में भर लिया.
“अरे अभी बहुत समय है, बाद में ये सब कर लेना, प्लीज अभी मुझे काम खत्म कर लेने दो.” वो मेरे गाल पर किस करके बोली।

मैं वापस बेडरूम में आकर लेट गया और सोचने लगा कि रेनू कितनी कंजूस है, आज देखो … उसने ना चाय पीने दी और न यौवन रस पीने दिया।

उसका सारा काम लगभग 2 घण्टे चला. वो थककर बेड पर आकर गिर पड़ी.
मैंने उसका सिर अपनी गोद में रख लिया और उसका सिर दबाने लगा.
उसने अपनी आँखें बंद कर लीं।

जब वो नॉर्मल सी हुई तो मैंने उसके होंठों को अपने होंठों में लेकर चूसना शुरू कर दिया.
मैं धीरे-धीरे उसकी गर्दन को चूमने लगा।

मैंने रेनू के नाईट सूट को आहिस्ता से निकाल दिया।
उसने अंदर एकदम पारदर्शी ब्रा-पैंटी पहन रखी थी. ब्रा से उसके तने हुए कत्थई निप्पल साफ दिख रहे थे. पैंटी सामने से पारदर्शी थी जिसमें से बस काले बाल दिख रहे थे.

इस स्टोरी को मेरी सेक्सी आवाज में सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें.

पीछे पैंटी में बस एक पतली पट्टी थी जो उसके नितंबों की दरार में छुप गयी थी.
पीछे से उसके बड़े-बड़े नितंब बिल्कुल नंगे थे।
अगर मैं कहूँ कि उसके नितंब दुनिया में सबसे माँसल और भरे हुए हैं तो मैं बिल्कुल भी गलत नहीं हूँ।

मेरे हाथ उसके गदराए बदन पर मचलने लगे और उसके मेरे कपड़ों पर!
उसने मुझे पूरा नंगा कर दिया।

रेनू ने मेरा लण्ड अपने हाथों में लेकर सहलाना शुरू कर दिया.

मैंने ब्रा के ऊपर से उसके निप्पलों को काट कर चूसना शुरू कर दिया और मेरे दोनों हाथ उसके नितंबों को दबाने लगे।

फिर रेनू ने मेरा लण्ड मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया.
वो लण्ड को मुँह के हर कोने में ले जाती और जीभ लिंगमुंड के ऊपर फिराती. मानो मेरा लण्ड लॉलीपॉप हो।

ये हिंदी सेक्स कहानी आप HotSexStoriesPictures.Com पर पढ़ रहें हैं|

फिर मेरा एक हाथ रेनू की छोटी सी कोमल चूत के ऊपर गया.

उसने अभी तक बाल साफ नहीं किये थे. मुझे उसकी बालों से ढकी चूत बहुत प्यारी लग रही थी।

मैंने पीछे से उसकी ब्रा के हुक खोल दिये.
उसके बड़े-बड़े स्तन एक झटके से झूलने लगे.

मैं दोनों स्तनों को हाथों में भरकर दबाने लगा; उंगलियों से उसके चूचकों को छेड़ने लगा।
इधर रेनू मेरे लण्ड को अपनी चूत पर रगड़ने लगी.

मैंने रेनू को बेड पर सीधा लिटाया और उसके होंठों, गर्दन, स्तनों, पेट, नाभि, चिकनी जांघों को चाटने लगा.
ऐसा लग रहा था कि उसका हर अंग शहद से भरा हो।

कामुकता सेक्स स्टोरीज

रेनू की पैंटी आगे से गीली होने लगी थी.
मैंने धीरे से उसकी पैंटी उतारी.
उसने दोनों हाथों से छोटी सी चूत ढक ली.

मैंने उसकी चूत के बालों पर हाथ फिराया. उसकी झांटों के बाल उंगलियों में फंसने लगे।

“रेनू सच में तुम्हारी चूत बहुत सुंदर है. तुम्हारी उम्र बढ़ रही है मगर ये आज भी किसी कॉलेज गर्ल जैसी कमसिन है. कैसे मेन्टेन रखती हो इसको ऐसे?
ये सुनकर रेनू हल्का सा शर्मा गयी.

मैंने उसकी चूत की दरार पर उंगली फिरायी जो गीली थी. उसकी चूत को खोल कर उसकी नुकीली भगनासा को मुँह में ले लिया.

इस क्रिया से रेनू का बदन अकड़ गया. वो मेरे सिर को दबाने लगी.

अन्तर्वासना हिंदी सेक्स कहानियाँ

मैंने एक उँगली चूत के अंदर डाली. उसकी चूत बहुत गर्म और गीली हो रही थी।

चूत से सफेद पानी बाहर झांटों को गीला करने लगा.

मैंने दो उंगलियां चूत के अदंर डालीं और उसकी चूत को खोल कर देखा.
कितनी सुंदर चूत थी उसकी … दोनों किनारे खोलते ही सामने योनिद्वार जो हल्का सा गुलाबी था … चूत के दोनों होंठ चिपके थे।

रेनू नितंबों को हिलाने लगी.

मैंने उसकी चूत को चाट कर साफ कर दिया. उसके झांटों के बाल मुँह में आ रहे थे।

इस स्टोरी को मेरी सेक्सी आवाज में सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें.

रेनू आँखें बंद करके लेटी थी और मैंने तना हुआ लण्ड उसकी चूत में एक ही झटके में पेल दिया.

इस झटके से रेनू हिल गयी और उसके मुँह से चीख सी निकली- अरे मार डाला … ऊईई … उफ्फ … बता तो देते?
फिर मैं चूत से लण्ड निकाल कर टेबल से एक चॉकलेट लाया जो कि थोड़ी सी सॉफ्ट हो गयी थी।

चॉकलेट निकाल कर उसके निप्पलों के ऊपर मल दी. नाभि के छेद में भी लगाई और फिर बची हुई पूरी चॉकलेट उसकी चूत के अंदर और गाँड के छेद में भर दी।
रेनू मुस्करा कर सब देख रही थी.

मैंने फिर धीरे-धीरे चॉकलेट चाटनी शुरू की तो रेनू का बदन कांपने लगा. उसके निप्पल एकदम तन कर खड़े हो गए. नाभि और गाँड की चॉकलेट साफ की. मगर चूत की छोड़ दी।

उसकी चॉकलेट से भरी चूत कमाल लग रही थी. मैंने लण्ड चूत में डाल कर घुमाया. बहुत सारी चॉकलेट लण्ड पर लग गयी.

Desi HD Porn Tube Videos & Movies

चॉकलेट से सना लण्ड रेनू के मुँह के पास ले गया. शायद वो भी यही चाह रही थी।
उसने टेस्ट ले लेकर चॉकलेट को लण्ड के ऊपर से चाटा.

उसका ऐसे लण्ड चाटना मेरी हालत खराब कर रहा था.
“आज क्या मुँह से ही करने का इरादा है?” मैंने सिसकारते हुए पूछा.
“आज कुछ नया स्वाद लेने का मन है.” उसने मस्ती में चूसते हुए कहा.

रेनू ने इतना कहकर लण्ड के ऊपर और चॉकलेट लगा कर मुँह में ले लिया.
वह शायद दो टेस्ट लेना चाह रही थी. वो लण्ड को पूरा मुँह भर के चूसने लगी.

5 मिनट के बाद मेरे लण्ड ने गर्म वीर्य उसके मुँह में छोड़ा.
उसने झटके से लण्ड बाहर निकाला और बची हुई चॉकलेट फिर लण्ड पर लगा दी.
रेनू वीर्य और चॉकलेट का टेस्ट एक साथ ले रही थी।
उसने पूरा लण्ड निचोड़ कर साफ कर दिया।

मैंने उसकी चूत को देखा जिसमें चॉकलेट भरी थी. मैंने चॉकलेट चाटनी शुरू की तो रेनू ने दोनों टांगें चौड़ी करके घुटनों तक मोड़ लीं.
अब रेनू की चूत का मुंह थोड़ा सा खुल गया था.

चूत पर होंठ रखते ही वो नितंबों को हिलाने लगी. जैसे मैं चूत के अंदर से चॉकलेट चाटता वो गांड उठा देती. चूत के अंदर की चॉकलेट मैं उंगलियों से निकाल कर चाट लेता.

फिर वो अकड़ी औऱ चूत ने पानी छोड़ दिया.
क्या मस्त टेस्ट था चॉकलेट और उसके योनिरस का। उसकी चूत को चाट-चाट कर पूरा साफ कर दिया.

“कैसी लगी आज की चॉकलेट कंजूस?” मैंने पूछा.
“सच में मजा आ गया आज तो, पहली बार लॉलीपॉप और और चॉकलेट का एक साथ टेस्ट लिया, थैंक यू.” कहकर रेनू ने मेरा लण्ड चूम लिया।

फिर मैं रेनू को बांहों में भर कर लेट गया.
थोड़ी के बाद मेरी आँख खुली. देखा कि रेनू अब भी सो रही थी. वो सोते हुए साक्षात रतिरूपी सांवली सालोनी मूरत लग रही थी.

उसके सुंदर से चेहरे पर बिखरे हुए बाल, उसके गाल, उसके गुलाब की पंखुड़ियों जैसे होंठ, उसकी सुराहीदार गर्दन, यौवन से भरे हुए स्तन … जिनके ऊपर कत्थई चूचक सौंदर्य में चार चांद लगा रहे थे.

उसका चिकना और समतल पेट, उसकी गहरी नाभि, उसकी कमर, उसके माँसल और कोमल नितंब. दोनों नितंबों के बीच की दरारों में गुदाछिद्र. उसकी जांघों का कटाव बेहतरीन था.

दोनों चिकनी जाँघों के बीच हल्के कोमल काले बालों से ढका हुआ स्वर्ग मार्ग, उसकी गुलाबी चूत … जो अभी भी कुंवारी लड़कियों जैसी छोटी और माँसल थी.

सोती हुई रेनू बहुत प्यारी लग रही थी।
वो करवट से सो रही थी.

मैं उसकी पीठ की तरफ जाकर लेट गया और मेरा लण्ड उसकी गाँड को छेड़ने लगा. मैंने उसके हिप्स को सहलाना और चूमना शुरू किया.

मुझसे नहीं रहा गया और मैं उसके हिप्स दांतों से काटने लगा. उसके गोल-गोल हिप्स के ऊपर मेरे दाँतों के निशान बन गए थे।

मुझे रेनू के हिप्स सबसे सुंदर लगते थे, मेरा लण्ड उसकी गांड के भीतर घुसने लगा।

मैंने रेनू को उल्टा लिटा दिया. उसके दोनों हिप्स मेरे सामने थे. दोनों हिप्स को खूब दबाया औऱ सहलाया. उसके हिप्स के बीच में उसकी चूत हल्की सी दिख रही थी.

फिर मैंने रेनू की गाँड को थोड़ा सा चौड़ा कर उसकी चूत और गाँड को सहलाया।
रेनू भी जागकर मजे ले रही थी.

मैंने पीछे से उसकी चूत में लण्ड डाल कर चुदाई शुरू कर दी।
रेनू अब आह आह … की कामुक आवाजें निकाल रही थी। रेनू के बड़े-बड़े हिप्स लण्ड को पूरा चूत में नहीं जाने दे रहे मगर उसके हिप्स अलग ही मजा दे रहे थे।

“लण्ड चूत में पूरा अंदर तक नहीं जा रहा … मजा नहीं आ रहा …प्लीज पूरा डालो … अन्दर तक … आह-आह … चोदो … और चोदो।” सिसकारते हुए वो अपनी हालत बता रही थी.

Free Xtube XXX Porn Videos

मैंने लण्ड उसकी चूत से निकाल लिया और सीधा लेट गया और रेनू को ऊपर उल्टा बैठने को कहा।
रेनू ने मेरे खड़े लण्ड को देखा और मुँह में ले लिया और अच्छे से चूसने के बाद लण्ड को अपनी चूत के ऊपर रगड़ने लगी।

वह चूत की दरार में लण्ड को घिसने लगी. अपनी भगनासा के ऊपर लण्ड को रगड़ कर सिसियाने लगी।
वो लिंगमुण्ड को हल्का सा चूत के अंदर डालती फिर निकाल लेती.

रेनू की इस हरकत से मेरा लण्ड बेहाल हो गया.
मेरा लंड अंदर जाना चाहता था, मगर रेनू लण्ड से खेल रही थी. कभी जीभ से चाटती तो कभी अंडकोष मुंह में भर लेती. कभी लण्ड को गाँड पर रगड़ती।

रेनू ने मेरी जांघों पर बैठ कर लण्ड को चूत के छेद पर सेट किया और बैठ गयी.
पूरा लण्ड उसकी चूत के अंदर दीवार से जाकर टकराया।

रेनू सीत्कार उठी- सच में … जब तक पूरा लण्ड अंदर तक न जाये मजा नहीं आता।
अब रेनू के हिप्स मेरी तरफ थे. फिर उसने धीरे से लण्ड के ऊपर उछलना शुरू कर दिया.

वो थोड़ी देर चुदाई करती, फिर रुक जाती. उसके बड़े-बड़े हिप्स जब हिलते और लण्ड को अंदर-बाहर ले जाते तो मैं भी आनंद में डूब जाता।

मैंने उसके दोनों हिप्स को नोचना, उसकी गाँड के छेद को उंगली से चोदना शुरू कर दिया।

रेनू भी मस्त होकर लण्ड अंदर तक ले जा रही थी. उसकी चूत ने दो बार पानी छोड़ा. वो थोड़ा रुक कर फिर शुरू हो जाती।
उसके स्तन उछल उछलकर हाहाकार मचा रहे थे.

उसके चूचक ऐसे तन गए मानो उनमें दूध भर गया हो. मैं उसके सुडौल स्तनों को दबाने लगा।

रेनू की मेहनत साफ दिख रही थी. A.C. में भी उसका पूरा बदन पसीने से भीग रहा था.

Full HD & 4K Porn Videos

फिर उसके बीच में उसने अपनी गाँड को मेरे लण्ड के ऊपर घुमाना शुरू कर दिया।
वो लाजवाब चुदाई कर रही थी।

“मेरा अब होने वाला है रेनू!” मैंने सिसकारते हुए कहा.
सुनकर रेनू ने गति बढ़ा दी. शायद वो भी चरम सुख पाना चाहती थी।

अचानक मैंने उसके दोनों हिप्स दबोच लिए और मैं नीचे से धक्का लगाने लगा.
अब लण्ड हर बार रेनू की चूत के अंदर टकरा रहा था.

रेनू स्पीड बढ़ाती जा रही थी।
“हो गया मेरा … आह्ह … हाय मर गयी … ओ … ओ … मा ओओ … आह्ह … बाप रे … आज तो, बहुत थका दिया तुमने मुझे!”
इतना कहकर रेनू रुक गयी.

उसकी चूत ने ढे़र सारा योनिरस उगल दिया और मैंने भी 2-3 धक्कों के बाद उसकी गाँड को कस कर पकड़ा और पूरा वीर्य रेनू की चूत में छोड़ दिया।

रेनू चूत में लण्ड छोड़ कर ऐसे ही ऊपर लेट गयी।
“जान आज तो बिना मज़दूरी के मेहनत करवा रही हो … कुछ चाय-नाश्ता भी नहीं, बस खेत में हल चलवाये जा रही हो कंजूस … कहीं की!”

सुनकर रेनू हंस पड़ी और मुझसे लिपट गयी।

इस तरह से मेरा बरसों पुराना सपना पूरा हुआ.
उस नवयौवना का यौवन रस चखकर मैं जैसे तृप्त हो गया था.
उसको भी मेरे साथ संभोग में बराबर का आनंद मिला.

देसी नंगी भाभी की सेक्स कहानी आपको कैसी लगी मुझे जरूर बताना. आपकी प्रतिक्रयाओँ का इंतजार रहेगा.