बाय्फ्रेंड के साथ मेरा पहले संभोग

हेलो दोस्तों मेरा नाम दृष्टि सिंग है, मैं पहली बार कहानी लीख रही हूं, अपने पहले सेक्स की. आपको मेरी कहानी पसंद आए तो कमेंट जरुर करें, मैं शुरू से बताती हु, मेरा रंग गेहूआ है, हाइट ५ फुट ५ इंच है, मेरा शरीर बहुत सुडोल है, काफी लंड मुझे चोदना चाहते हैं, और मुझे देख कर अपना रस छोड़ देते हैं.


यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप www.HindiSexStoriesPictures.Com पर पढ़ रहे हैं

मेरा एक बॉयफ्रेंड है जिसका नाम अरमान है, हम एक दूसरे से शुरु से ही बहुत ओपन थे. वह इसके लिए कि मुझ में बहुत ज्यादा हवस है और मैं चुदना चाहती थी,  आरमान काफी स्ट्रांग है और उसका लंड भी उसके जैसे ही है, उसका लंड का साइज ९ इंच है और ३ इंच मोटा है, मैंने पहली बार उसका लंड वेबकैम पर देखा था, तब से ही मैं उससे चुदना चाहती थी और एक दिन यह सच में हो गया, मेरे घर वाले बाहर गए थे. मैं अकेली थी तो मैंने अपनी मम्मी को फोन करके कहा कि मैं अपने दोस्त के घर जा रही हूं.

आरमान मुझे लेने आया और हम उसके लिए एक दोस्त के अपार्टमेंट में गए, मैं बहुत एक्साइटेड थी इतनी ज्यादा कि मेरी चूत वैसे ही गीली हो चुकी थी, पहली बार चुदाने वाली थी, रास्ते में मैंने जब आसमान को छुआ तो अचानक से उसके लंड की तर मेरा ध्यान गया जो कि आसमान को छूना चाह रहा था. पर कंबखत चड्डी के अंदर सिमट कर पड़ा हुआ था. जैसे ही हम अपार्टमेंट में पहुंचे अरमान ने मुझे जकड़ लिया और चूमने लगा, मैं भी उसका साथ देने लगी क्योंकि आग मुझ में भी उतनी ही लगी थी, वह चूमते-चूमते मेरे बदन को चूसने लगा.

मेरे बूब्स दबाने लगा, मैंने भी अपना हाथ उसके लंड पर फेरना शुरू कर दिया, हम चूमते-चूमते सीधे बेडरूम में चले गए.

अरमान ने मुझे गोद में उठाया और अचानक से बेड पर पटक दिया, वह अपना शर्ट उतार रहा था कि मैंने उसे रोक दिया और कहा रुक जाओ जान.. वह पूछने लगा क्यों?

तो मैंने कहा बस २ मिनट.. और मैं उठ कर बेड पर अपने घुटनों के बल पर बैठ गई अरमान का फेवरेट कलर ब्लैक है और मैंने ब्लेक नेट वाली ब्रा और पेंटी छोटीसी पहनी थी, जिससे मेरा हर एक जिस्म जांक रहा था, मैंने अपने कपड़े पहले उतारना चालू किया और फिर बेड से उतरकर अरमान के सामने गई और उसे चूमने लगी.

फिर मैं सीधा बाथरूम की तरफ मुड़ी और उस तरफ मुह करके स्माइल दी, वह समझ गया और कुछ देर बाद मेरे पीछे पीछे आने लगा. तब तक मैं अंदर जा चुकी थी और शोवर ऑन करके अपने बदन से खेल रही थी. अरमान अंदर आया और बोला क्यों इतना तड़पा रही हो? और इतना कहकर मुझे अपनी बाहों में जकड़ लिया. मैं उसे अपने आपको छूड़ा पा नहीं रही थी और जो भी हो रहा था बस उसके मजे ले रही थी. और वह मेरे चुचे को दबा रहा था बहुत जोर जोर से और मैं मोन कर रही थी.

 अब मैं उसका लंड अपने हाथ में ले चुकी थी और उसके साथ खेल रही थी, मैंने कहा अरमान वेबकेम में तो अलग दिखता है, और यहां पर.. क्या यह मेरे अंदर आ पाएगा?

वह बोला क्यों नहीं जान? बस थोड़ी सी मेहनत करनी होगी तुम्हारी चूत अभी कुंवारी है, फिर वह बोला चलो जान अब और ना तड़पाओ. जल्दी से मेरा अपने मुंह में ले लो. फिर वह बोला और मैं घुटने के बल बैठ कर उसका लंड चूसने लगी और पूरी कोशिश कर रही थी कि पूरा लंड अपने मुंह में ले लू, पर मैं नहीं कर पाई, और उसने कहा कि मैं बहुत अच्छा चूसती हूं. अब मैं खड़ी हो गई और उसने भी अपनी एक उंगली मेरी चूत में डाल दिया, मैं बहुत घबरा गयी इस अचानक हुई हरकत से.

वह धीरे धीरे अपनी उंगली अंदर बाहर करने लगा और मैं सिर्फ आह्ह औऊ आया हाहा यस्स हाहाह यायी औऊ बेबी.. अब अरमान मेरी चूचियों को चूसते चूसते मेरी चूत में उंगली कर रहा था, उसकी उंगली मेरी चूत को ऐसे पेल रही थी की जन्नत का मजा आ रहा था, जब उंगली करवाने में इतना मजा आ रहा था तो लंड में कितना आता, सोच कर मैंने कहा अरमान जान अब डाल दो अपना लंड, फाड़ दो मेरी चूत.. और मुझे कुंवारेपन से मुक्त करके अपनी रंडी बना लो.. वह मुझे गोद में उठा कर वापिस बिस्तर पर ले गया.

बोला जान पहले तुम्हारी चूत तो देख लू एक बार.. और वह नीचे चला गया और मेरी चूत पर उसकी जीभ से चाटने लगा. वह मुझे ऐसे चाट रहा था जैसे कुत्ता हड्डी को चाटता है मुझे रहा नहीं कर जा रहा था और में ज्यादा गरम हो रही थी. ऐसा लग रहा था कुछ निकलने वाला है मेरी चूत से, वह मेरा रस था. मैंने अरमान से कहा जान मेरा रस आ रहा है, वह बोला कोई बात नहीं जान तुम निकाल दो. और उसने मेरा पूरा रस चाट लिया, अब मेरी चूत वापिस से टाइट हो गई थी.

उसने अपने लंड के सुपारे और मेरी चूत पर बहुत सारा तेल लगाया और अपने लंड को मेरी चूत में डालने लगा, उसके सुपाड़े के छूने से मैं चटपटा गई, बहुत मस्ती आ रही थी और चुदाई भी करवानी थी यह सोच कर मैं आहें भरती रही. उसने फिर धक्का दिया और अपना ४ इंच मेरी चूत में पेल दिया, मुझे बिल्कुल भी नहीं सहा गया और मैं बहुत जोर से चिल्ला पड़ी आह्ह औऊ ईई माया हहह उऔउ ययय या उसने मुझे चूमा और शांति से अपने आधे लंड को मेरी चूत में रहने दिया और मुझे किस करने लगा. नीचे देखा तो पता चला खून बह रहा था. वह और मैं दोनों समझ गए कि मेरी सील टूट गई, अब मेरा दर्द भी कम हो रहा था तो वह फिर से धक्के देना चालू करने लगा.

अब उसकी धक्के की स्पीड तेज होने लगी तभी उसने मुझे उठा कर खुद नीचे और मुझे उसके ऊपर कर दिया. मैं उसके लंड पर बैठी थी और आगे पीछे हो रही थी. और वह मेरे चूचे दबा रहा था. फिर हम डॉगी स्टाइल में आ गए उसने पीछे से चोदा इसी बीच में दो बार और अपने रस को निकाल चुकी थी, और अरमान एक बार. करीब दो टाइम की चुदाई के बाद मेरी टांगे दुखने लगी और मैं थक गई, तभी अरमान का भी रस निकलने को था, तो मैंने उसे कहा कि मुझे यह चखना है, कि आखिर होता कैसे है, उसने अपने हाथ से हिला कर पूरा रस मेरे मुंह पर डाल दिया, और चूचो पर भी..


यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप www.HindiSexStoriesPictures.Com पर पढ़ रहे हैं

मैंने सब समेट के उसको पी लिया.. वाह क्या स्वाद था.. १ घंटे हम दोनों ऐसे ही नंगे एक दूसरे के बदन से लिपट कर लेटे थे, फिर मैंने उसको एक और ब्लोजोब दिया और तीन चार घंटे की चुदाई के बाद हम घर आ गए.. मेरी तो चूत सूजी पड़ी थी 3 दिन तक.. पर उसके बाद में चुदाई में एक्सपर्ट हो गई और अरमान के अलावा और लंड से भी चुदी..


Share on :